kissan protest

विदेश राज्यमंत्री मीनाक्षी लेखी ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान किसान प्रदर्शन के दौरान मीडियाकर्मी पर हुए कथित हमले पर कहा था , ‘वे किसान नहीं, वे मवाली है, ये आपराधिक कृत्य है|

मीनाक्षी लेखी जी ने तीन नए कृषि कानूनों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को ‘मवाली’ करार दिया | गुरुवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उनकी तरफ से किसानो को मवाली कहा गया | बयान पर भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने इस गलत करार दिया | राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों के लिए इस तरह की टिप्पणी करना गलता है| हम किसान है न कि मवाली| उन्होंने आगे कहा कि किसान जमीन के अन्नदाता है|

इधर, केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी किसान संसद के दौरान मीडिया पर हुए हमले की निंद की| उन्होंने कहा कि इलैक्ट्रोनिक मीडिया की बड़ी जिम्मेदारी है देशभर से जानकारियों को इकट्ठा करना.| अगर किसी कैमरामेन से मारपीट हुई है तो ऐसा नहीं होना चाहिए और मैं इसकी कड़ी आलोचना करता हूं. यह दुख की बात है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *